बुधवार, 17 नवंबर 2021

दिल्ली से पहले भारत की राजधानी क्या थी

इस पोस्ट के माध्यम से हम जानेंगे की दिल्ली से पहले भारत की राजधानी क्या थी यदि आप एक भारतवासी हैं तो आप यह जानते होंगे की भारत की राजधानी दिल्ली है जैसा की आप जानते हैं की भारत का इतिहास काफी पुराना है और यहाँ कई प्रकार के अलग अलग शासकों का शासन रहा है इसके अलावा भारत देश पर अंग्रेजों ने 200 सालों तक राज किया इसके बाद कई स्वतन्त्रता सेनानियों के त्याग और बलिदान के बाद आज भारत देश आजाद है। 

आजादी के पहले यहाँ सभी लोग गुलाम थे और अंग्रेजों के अधीन रहकर काम किया करते थे लेकिन कहा जाता है भारत देश वीरों की जन्मभूमि है यहाँ कई वीर पुत्रों ने जन्म लिया और अपने देश को स्वतंत्र कराने के लिए अपने प्राणों का बलिदान भी दिया और 15 अगस्त 1947 को भारत देश अंग्रेजों की गुलामी से आजाद हुआ बदलते वक्त के साथ देश मे काफी बदलाव भी आए हैं ऐसे मे भारत देश की राजधानी को भी बदला जा चुका है आइये जानते हैं पहले भारत की राजधानी कौन सी थी और कब उसमे बदलाव किया गया।

भारत की पूर्व राजधानी

 

दिल्ली से पहले भारत की राजधानी क्या थी

वर्तमान समय मे भारत देश की राजधानी दिल्ली है लेकिन यहा शुरुआत से ही भारत की राजधानी नहीं है आजादी के समय से लेकर अब तक भारत मे कई प्रकार के बदलाव को देखा जा सकता है पहले अंग्रेजों ने अपने अनुसार यहाँ नियम और कानून बनाए थे लेकिन धीरे धीरे उसमे कई प्रकार के परिवर्तन किए गए कई राज्यों को अलग किया गया जहां पहले दिल्ली उत्तर प्रदेश के अंतर्गत आता था अब उसे एक राज्य का दर्जा मिला हुआ है। 

दिल्ली से पहले भारत की राजधानी कलकत्ता (वर्तमान कोलकाता) हुआ करती थी लेकिन इसमे संसोधन करके 1931 मे ओफ़िशियली दिल्ली को भारत की राजधानी बना दिया गया। यह आजादी के पहले का समय था जब दिल्ली को भारत की राजधानी बनाया गया था। 

भारत की राजधानी नई दिल्ली कब बनी

कई लोग यह जानना चाहते हैं की दिल्ली भारत की राजधानी कब बनी तो आपकी जानकारी के लिए बता दें 13 फरवरी 1935 को दिल्ली को भारत की नयी राजधानी बनाया गया था हालाकी दिल्ली को राजधानी बनाने की घोषणा 12 दिसंबर 1911 को पहले ही दिल्ली दरबार से की जा चुकी थी। लेखक मदन थपलियाल बताते हैं कि 12 दिसंबर 1911 को किंग जॉर्ज पंचम और क्वीन मेरी ने दिल्ली दरबार में आधारशिलाएं रखकर नई राजधानी बनाने की घोषणा की एवं शिलान्यास किया। 12 दिसंबर की रात को दरबार का समापन हुआ। 

इस प्रकार से भारत देश की राजधानी को कोलकाता से हटाकर दिल्ली को बनाया गया अब आप समझ ही गए होंगे की दिल्ली से पहले भारत की राजधानी क्या थी उम्मीद है यह जानकारी को आप सभी पसंद करेंगे। 

इसे भी पढ़ें 

  

0 टिप्पणियाँ: